NRC Bill क्या है? NRC Bill की पूरी जानकारी हिंदी में?

0

हेलो दोस्तो आज हम बात करेंगे कि NRC Bill क्या है?NRC Bill की पूरी जानकारी हिंदी में?NRC Bill का क्या मतलब होता है?NRC बिल भारत में क्यों लागू हो रहा है।NRC बिल लागू होने से हमारे भारत में रह रहे लोगो पर क्या फर्क पड़ेगा।NRC बिल से हमे कोई नुकसान होगा या कोई फायदा होगा।NRC बिल क्यों लागू हो रहा है।NRC बिल से आम आदमी पर कोई असर तो नही होने वाला है।

NRC Bill क्या है? NRC Bill की पूरी जानकारी हिंदी में?
NRC Bill क्या है?

NRC बिल को लेकर लोगो मे इतना आक्रोश क्यों है।NRC बिल से हिंदू, मुस्लिम, सिख ईसाई धर्म पर क्या फर्क पड़ने वाला है।NRC बिल के नाम से लोग इतना परेशान क्यों होते हैं।आज हम इस पोस्ट में एनआरसी के बारे में ही बात करेंगे।कि इस बिल से आम आदमी के जीवन पर कोई नुकसान होगा या फायदा इस बिल से किसका अधिकार छीन

* Pradhana Mantri Awas Yojna Me Apna Naam kaise Pata Kare?

सकता है।अगर आपको NRC के बारे में नही पता है तो कोई बात नही इस पोस्ट को शुरू से अंत तक पढिये आपके सभी सवालों के जवाब इस पोस्ट में मिल जायेंगे।और आपको NRC क्या है इसकी पूरी जानकारी भी हो जाएगी क्योंकि भारत में रहने वाले हर व्यक्ति को NRC के बारे में जानकारी होनी चाहिए।तो बिना देरी किये हुए जानते हैं कि NRC क्या है?NRC का क्या मतलब होता है?

NRC क्या है?

भारतवर्ष के हर व्यक्ति के मन मे यही सवाल है कि NRC क्या है।लगभग सभी लोग यही जानना चाहते हैं कि NRC क्या है।NRC से क्या फायदा होगा।तो आइये जानते है कि NRC क्या है।NRC का फुल फॉर्म National Register Of Citizens इस बिल का मतलब भारत मे रह रहे लोग अपनी नागरिकता साबित करे।इस बिल का मकसद है कि भारत में

अवैध रूप से रह रहे घुसपैठियों को भारत से बाहर निकालना।Nrc के द्वारा उन लोगो की पहचान की जायेगी जो अवैध रूप से भारत मे आ कर रह रहे हैं।ऐसे लोगो को सरकार द्वारा चिन्हित करके उनको भारत से बाहर निकाल दिया जायेगा।एनआरसी से किसी जात या धर्म का कोई वास्ता नही है NRC का मतलब केवल अवैध रूप से भारत मे

घुसपैठियों को बाहर निकालना ही है।भारत सरकार ये बात कह चुकी है कि एनआरसी से किसी धर्म के नागरिकों से कोई लेना देना नहीं है।अगर आप भारतवर्ष के नागरिक हैं तो आपको चिंता करने की कोई जरुरत नहीं है।NRC को सबसे पहले असम में 1951 में लोगों के घरों और संपत्ति को जानने के लिए तैयार किया गया था।उसके बाद 1975 में भी असम के

* उत्तर प्रदेश नई राशनकार्ड लिस्ट सूची कैसे देखें?BPL ,अंत्योदय कार्ड लिस्ट

सभी स्टूडेंट्स ने इसकी मांग की थी कि NRC लागू किया जाये।लेकिन तब नही लागू हो पाया उसके बाद 1985 में बांग्लादेश जब स्वतंत्र हुआ उसके एक दिन पहले 24 मार्च 1971 की आधी रात को असम राज्य में बांग्लादेश के घुसपैठियों को वापस बांग्लादेश भेजने के लिए NRC लागू किया गया था।उसके बाद NRC को अपडेट करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने 2013 में आदेश दिया था।

NRC लागू करने का क्या उद्देश्य है?

एनआरसी लागू करने का केवल एक ही उद्देश्य है कि भारतवर्ष में अवैध रूप से रह रहे विदेशी नागरिकों की पहचान की जा सके।और उनको चिन्हित करके उनके से वापस भेज दिया जाये।असम के आल स्टूडेंट्स यूनियन जैसे संगठन ने दावा

किया था कि बाग्लादेश से आये लोग भारत में रह रहे।और बांग्लादेशी उनके अधिकारों का हनन कर रहे हैं और हो रही आपराधिक गतिविधियों में शामिल होते हैं। इसलिए उसकी पहचान करके उन लोगो को उनके देश वापस भेजा जाये।

NRC बिल के हिसाब से भारत का नागरिक कौन है।

भारत सरकार द्वारा जारी किये गए दस्तावेज में ये बात साफ किया गया है कि 25 मार्च 1971 से जो व्यक्ति भारत में रह रहा है।वो भारतवर्ष का नागरिक माना जायेगा।दो सूची बन रही है सूची A और सूची B इन दोनों सूची में से आपको नागरिकता साबित करने के लिए आपको जरूरी दस्तावेज होने चाहिए।

“सूची A” के दस्तावेज

1. नागरिकता प्रमाणपत्र
2. स्थायी निवास प्रमाणपत्र
3. पासपोर्ट
4. बैंक या एलआईसी दस्तावेज
5. आवास प्रमाणपत्र
6. शैक्षिक प्रमाणपत्र
7. शरणार्थी पंजीकरण प्रमाणपत्र
8. 25 मार्च 1971 तक का इलेक्टोरल रोल 1951 की NRC

“सूची B” के दस्तावेज

1. राशनकार्ड
2. बर्थ सर्टिफिकेट
3. पोस्ट ऑफिस रिकॉर्ड
4. मतदाता सूची में नाम
5. बोर्ड या विश्वविद्यालय प्रमाणपत्र
6. कानूनी रूप से स्वीकार अन्य प्रमाणपत्र

NRC को कैसे अपडेट किया?

अगर कोई भी अपना नाम असम के नागरिकों के सूची में देखना चाहता है।तो उसे 25 मार्च 1971 से पहले से रह रहे थे।इसको सबित करना होगा इसके लिये “सूची A” में जो दस्तावेज मांगा गया है उसको NRC फॉर्म के साथ जमा करना

होगा।यदि उसके पास दस्तावेज नही है तो वो अपने पूर्वजों के निवासी होने का दस्तावेज तैयार करके “सूची B” में बताये गए दस्तावेज NRC फॉर्म के साथ जमा कर सकते हैं।

NRC के बारे में?

NRC पर सरकार द्वारा 1200 करोड़ रुपये खर्च किये गए है।और 55000 सरकारी कर्मचारियों के द्वारा 64.4 मिलियन दस्तावेज की जांच करके तैयार किया गया है।

NRC Bill में नाम न होने पर क्या कर सकते हैं?

अगर आपका नाम NRC सूची में नही आया है तो चिंता करने की कोई बात नहीं।जो व्यक्ति सूची से बाहर किये जायेंगे वो विदेशी ट्रिब्यूनलो पर अपना आवेदन कर सकते हैं।जो कानून1964 के तहत अर्धन्यायिक निकाय है।फ़ाइनल सूची जारी होने के 120 दिन के अंदर ही आपको न्यायाधिकरणों से अपील कर पड़ेगा।अगर वहाँ से भी आपको राहत नही

मिलती हैं तो सुप्रीम कोर्ट पर जाकर आपको अपना पक्ष रखना चाहिए।अगर सुप्रीम कोर्ट ने भी विदेशी घोषित कर दिया तो ।उस व्यक्ति को पुलिस द्वारा गिरफ्तार करके नजरबंदी केंद्र में रखा जा सकता है।जुलाई 2019 तक अभी लगभग 1,17,164 आदमी विदेशी घोषित किए गए हैं।इनमे से 1145 आदमी गिरफ्तार किये गए हैं।

मुझे उम्मीद है कि आपको NRC क्या है।NRC का क्या उद्देश्य है।NRC क्यों लागू हो रहा है।इसकी पूरी जानकारी आपको मिल चुकी होगी।अगर आपको हमारी ये पोस्ट अच्छी लगी है तो इस पोस्ट को लाइक और सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें जिससे NRC की सही जानकारी उनको भी प्राप्त हो सकें।।धन्यवाद।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here